के.एम.वी. द्वारा सफलता पूर्वक चलाई जा रहे न्यू एज एड-ऑन सर्टिफिकेट कोर्सज़ से छात्राएं हो रही है लाभान्वित

के.एम.वी. द्वारा आधुनिक समय की वैश्विक मांग को ध्यान में रखकर नई शिक्षा नीति के अनुसार बनाए गए यह कोर्सेज़ विद्यार्थियों के सर्वपक्षीय विकास में बेहद कारगर

कोर्सेज़ में दाखिला लेने वालों का भरी रश

जालंधर (मोहित अरोड़ा) :- भारत की विरासत एवं ऑटोनॉमस संस्था, कन्या महा विद्यालय, जालंधर के द्वारा सदा छात्राओं के ज्ञान एवं रोज़गार कौशल को बढ़ाने के लिए विभिन्न सृजनात्मक प्रोग्रामों के आयोजन में पहलकदमी की जाती रहती है. कौशल विकास में एक अग्रणी संस्था होने के नाते कन्या महा विद्यालय ने कई नए आयाम स्थापित किए हैं. एक और नई पहलकदमी करते हुए के.एम.वी. के द्वारा नई शिक्षा नीति के अनुसार सफलतापूर्वक चलाए जा रहे न्यू एज ऐड-ऑन सर्टिफिकेट कोर्सज़ में दाखिला लेने वालों का भारी रश होने के साथ-साथ पूरी दिलचस्पी दिखाई जा रही है. इन सभी नए कोर्सेज से कैंपस की छात्राओं के साथ-साथ विद्यालय से बाहर की छात्राएं भी बेहद लाभ प्राप्त कर रही हैं. उल्लेखनीय है कि छात्राएं अपनी नियमित डिग्री के साथ इन कोर्सेज़ का चयन कर सकती हैं क्योंकि यह पाठ्यक्रम उनकी शिक्षा को अधिक सकारात्मक और प्रभावी बनाने के अलावा उनके कौशल को बढ़ाने की क्षमता भी रखते हैं. यह सभी कौशल पर आधारित व्यवसायिक कोर्स भारत की नई शिक्षा नीति के अनुरूप हैं इसमें से अधिकतर कोर्स कौशल पर आधारित और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर सेक्टर स्किल काउंसिल (एन.एस.डी.सी.), भारत सरकार के अनुरूप एवं मान्यता प्राप्त है. इन कोर्सेज़ में दाखिले के लिए कम से कम योग्यता 10+2 है और अपनी नियमित डिग्री करने वाले विद्यार्थियों के द्वारा इनको चुना जा सकता है एवं वह केवल सर्टिफिकेट कोर्स भी कर सकते हैं. बेहद कम फीस में यह कोर्सेज कॉलेज के बाहर की छात्राओं के लिए भी खुले हैं जो उन्हें स्किल् ट्रेनिंग, रोज़गार एवं प्रमाण में मदद करेंगे. इस बारे में और अधिक जानकारी प्रदान करते हुए विद्यालय प्रिंसिपल प्रो. अतिमा शर्मा द्विवेदी ने बताया कि कन्या महा विद्यालय में छात्राओं की तकनीकी और एकेडमिक योग्यता में सुधार लाने के उद्देश्य के साथ नए कौशल विकास कोर्सेज की एक विस्तृत श्रृंखला है. इन कोर्सेज में रिटेल सेल्स एसोसिएट, डॉमेस्टिक डाटा एंट्री ऑपरेटर, ग्राफिक डिज़ाइनिंग/ वीडियो एडिटिंग, मेकअप आर्टिस्ट, कमर्शियल आर्ट, डिजिटल बैंकिंग, वैदिक मैथमेटिक्स, अर्ली चाइल्डहुड केयर एंड एजुकेशन, जेरीएटरिक केयर (ओल्ड एज केयर एंड न्यूट्रिशन), फूड प्रोडक्शन(कॉमिस शेफ), क्रिएटिव डिज़ाइन, पंजाबी सभ्याचार अते स्त्री लोक कला, बेसिक्स आफ़ परफॉर्मिंग आर्ट्स (म्यूजिक वोकल), डाटा एनालिटिक्स विद पावर बी एंड टेबलियु, पब्लिक स्पीकिंग, क्रिएटिव राइटिंग, गांधियन थॉट एंड फिलासफी, डाटा एनालिसिस यूजिंग स्टैटिसटिक्स सॉफ्टवेयर्स, प्रोफेशनल काउंसलिंग स्किल्स, हाउसहोल्ड फिज़िक्स आदि शुमार हैं. इन कोर्सेज को कौशल के उच्च स्टैंडर्ड्स को प्रदर्शित करने के लिए डिज़ाइन किया गया है ताकि युवाओं को राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर अपनी प्रतिभा को प्रदर्शित करने के लिए एक विशेष मंच प्रदान किया जा सके. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि इन पहलकदमियों से सकारात्मक बदलाव आएंगे क्योंकि यह कोर्सेज छात्राओं को रोज़गार के लिए तैयार करेंगे और शानदार प्लेस प्लेसमेंट के लिए उनके कौशल को अपग्रेड करने में भी इनकी विशेष भूमिका है।

Check Also

सेंट सोल्जर इंस्टीट्यूट ऑफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी के छात्रों ने यूनिवर्सिटी रिजल्ट में मारी बाजी

जालंधर (अजय छाबड़ा) :- सेंट सोल्जर इंस्टीट्यूट ऑफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी के छात्रों ने यूनिवर्सिटी …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *