भारतीय वायुसेना का प्रयासः आम चुनाव-2024

दिल्ली (ब्यूरो) :- भारतीय वायु सेना के परिवहन और हेलीकॉप्टर बेड़े युद्ध और शांतिकाल में विभिन्न कार्य करते हैं। वायु रखरखाव, घरेलू और अंतर्राष्ट्रीय अभ्यासों के दौरान लड़ाकू सैनिकों की एयरलिफ्ट द्वारा हमारे सैनिकों के रखरखाव की शांतिकालीन भूमिका के अलावा, राष्ट्र निर्माण की दिशा में अनेक कार्य किए जाते हैं। भारतीय वायुसेना विशेष रूप से नागरिक सहायता में सबसे आगे रही है। आम चुनाव-2024 के दौरान, पिछले कुछ महीनों में मीडियम लिफ्ट हेलीकॉप्टरों (एमआई-17 वैरिएंट), हल्के उपयोगी हेलीकॉप्टरों (चेतक) और स्वदेशी रूप से निर्मित एडवांस्ड लाइट हेलीकॉप्टरों (एएलएच) ध्रुव द्वारा पर्याप्त उड़ान कार्य किए गए हैं। भारतीय वायुसेना इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीनों की एयरलिफ्टिंग करने और भारत निर्वाचन आयोग के कर्मियों को ड्यूटी पर तैनात करने के कार्यों में इसी प्रकार सक्रिय रूप से शामिल रही है, जैसा इसने पिछले आम चुनाव/विधानसभा चुनावों के दौरान किया था। आम चुनाव 2024 के दौरान, भारतीय वायुसेना ने देश के दूरदराज के उन क्षेत्रों में भारत निर्वाचन आयोग की पहुंच बढ़ाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई, जहां सड़क मार्ग से आवाजाही एक सुरक्षा चिंता बनी हुई थी। यह काम समयबद्ध था क्योंकि मतदान अधिकारियों को चुनाव की तारीख से दो दिन पहले ही प्रत्येक दूरस्थ मतदान केंद्र पर तैनात किया जाना था और मतदान के बाद उन्हें वापस भी लाना था। भारतीय वायुसेना ने आम चुनाव-2024 के सात चरणों में से पांच में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। इसने 1750 से अधिक प्रयासों में 1000 घंटे से अधिक की उड़ान भरी है। इस कठिन कार्य को सुरक्षा, मौसम, सड़क संपर्क आदि को ध्यान में रखते हुए परिसंपत्तियों के अधिक से अधिक उपयोग के लिए नोडल अधिकारियों के माध्यम से विभिन्न राज्यों के निर्वाचन आयोग और मुख्य चुनाव आयुक्तों (सी. ई. सी.) के साथ गहन तालमेल से पूरा किया गया था। भारतीय सेना (आई. ए.) और बी. एस. एफ. की हेलीकॉप्टर परिसंपत्तियों को भी आम चुनाव-2024 के सहज संचालन की समग्र योजना में शामिल किया गया था।

Check Also

भारत विकास परिषद् जालंधर समर्पण शाखा ने सेवा तथा संस्कार कार्यक्रम को आगे बढ़ाते हुए ईसी मीटिंग का किया आ‌योजन

मीटिंग उपरांत मेडिकल कैम्प तथा पर्यावरण संरक्षण के अंतर्गत किया पौधारोपण जालंधर (अरोड़ा) :- भारत …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *