जनता से किए वादों से बचने के लिए आप सरकार ने विधानसभा में सफ़ेद पेपर पेश किया: कॉमरेड सेखों | राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन अधीन जालंधर जिले में स्वै- सहायता समूहों को 44.70 लाख के फंड दिए | लायलपुर खालसा कॉलेज जालंधर ने पंजाबी लोक नृत्य कैंप 2022 की घोषणा की | वज्र कोर के दिग्गजों के लिए आउटरीच | केएमवी की डॉ. रश्मि शर्मा को भारतीय सामाजिक विज्ञान अनुसंधान परिषद, शिक्षा मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा प्रमुख शोध परियोजना से सम्मानित किया गया |

शिक्षा

लायलपुर खालसा कॉलेज जालंधर ने पंजाबी लोक नृत्य कैंप 2022 की घोषणा की

जालंधर (अरोड़ा)- लायलपुर खालसा कॉलेज भांगड़ा की विरासत के प्रचार-प्रसार के लिए जाना जाता है। भांगड़ा का यह मक्का पंजाबी लोक नृत्य शिविर 2022 का आयोजन 1 जुलाई से 10 जुलाई 2022 तक कर रहा है। प्राचार्य डॉ. गुरपिंदर सिंह सामरा की अध्यक्षता में एक बैठक हुई जिसमें कहा गया कि भांगड़ा न सिर्फ मनोरंजन करता है बल्कि शरीर को भी फिट रखता है।  इस नृत्य रूप को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी पहचान मिली है। उन्होंने कहा कि यह शिविर सभी आयु वर्ग के लिए निःशुल्क है। डीन कल्चरल अफेयर्स डॉ. पलविंदर सिंह बोलिना ने कहा कि लायलपुर खालसा कॉलेज जालंधर की टीम द्वारा इस कैंप का आयोजन कॉलेज कैंपस में किया जाता है जो कि प्रतिभागियों के लिए सुरक्षित है।  उन्होंने आगे कहा कि लायलपुर खालसा कॉलेज सितंबर 2022 में सरी कनाडा में दूसरे भांगड़ा विश्व कप की मेजबानी करने वाला था। इस कैंप का मुख्य मकसद प्रतिभागियों को पंजाबी लोकनृत्य के डांस स्टेप्स सिखाना है।

शिविर में हर साल सभी उम्र के पुरुष और महिला प्रतिभागी उत्साह से शामिल होते हैं। डॉ. बोलिना ने कहा कि ऑनलाइन पंजीकरण चल रहा है और लगभग 300 प्रतिभागियों ने यूट्यूब चैनल और लिंक के माध्यम से पंजीकरण किया है जबकि ऑफलाइन पंजीकरण 29 और 30 जून, 2022 को किया जाएगा। इस अवसर पर प्राचार्य डॉ. समरा द्वारा नृत्य शिविर का पोस्टर भी जारी किया गया। प्रबंधन दल के सदस्यों में प्रो. अजीतपाल सिंह, प्रो. सतपाल सिंह, प्रो. गुरचेतन सिंह, प्रो. हरप्रीत सिंह, प्रो. ओंकार सिंह, प्रो. हरजिंदर कौर, प्रो. प्रभदीप कौर, प्रो. नवनीत कौर, प्रो. शिफाली थे। प्रो. पूजा सोनिक, उस्ताद निर्मल कुमार ढोली, जेसनप्रीत, सुखजीत, प्रदीप आदि मौजूद थे।

केएमवी की डॉ. रश्मि शर्मा को भारतीय सामाजिक विज्ञान अनुसंधान परिषद, शिक्षा मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा प्रमुख शोध परियोजना से सम्मानित किया गया

जालंधर (मोहित अरोड़ा):- भारत की विरासत एवं ऑटोनॉमस संस्था, कन्या महा विद्यालय, जालंधर हमेशा अंतरराष्ट्रीय मानकों के साथ अनुसंधान और अकादमिक उत्कृष्टता को बढ़ावा देने का लक्ष्य रखता है। कॉलेज अनुसंधान में उत्कृष्टता पर जोर देता है और सार्थक अनुसंधान परियोजनाओं को शुरू करने के लिए अपने कर्मचारियों को प्रेरित करता है। एक अन्य बड़ी उपलब्धि में, डॉ. रश्मी शर्मा, एसोसिएट प्रोफेसर, पीजी डिपार्टमेंट ऑफ कॉमर्स एंड बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन को इंडियन काउंसिल ऑफ सोशल साइंस रिसर्च (ICSSR) द्वारा 7,28,000 रुपये के राशि वाला “पंजाब में निम्न टेक सर्विस इंडस्ट्री में महिला उद्यमियों के बीच नवाचार संस्कृति की गतिशीलता" विषय पर प्रमुख शोध परियोजना से सम्मानित किया गया है। यह उल्लेख करना उचित है कि डॉ रश्मी केएमवी की इंस्टीट्यूशन इनोवेशन काउंसिल की अध्यक्ष भी हैं और छात्रों के बीच नवीन और उद्यमशीलता गतिविधियों का आयोजन करती रहती हैं। प्राचार्य प्रो. (डॉ.) अतिमा शर्मा द्विवेदी ने इस उल्लेखनीय उपलब्धि पर डॉ. रश्मि शर्मा को बधाई दी। उन्होंने इस बात पर प्रकाश डाला कि केएमवी अपने सदस्यों के व्यावसायिक विकास पर ध्यान केंद्रित करता है और उन्हें अनुसंधान गतिविधियों को करने के लिए प्रोत्साहित करने वाला वातावरण प्रदान करता है।

बिना जेईई पेपर के डिप्लोमा के जरिए सीधे बी.टेक करें - प्राचार्य डॉ. जगरूप सिंह

जालंधर (अरोड़ा)- बिना जेईई पेपर के मैट्रिक के बाद डिप्लोमा करने वाले छात्रों के लिए डायरेक्ट बी.टेक करने का सुनहरा अवसर है। मेहरचंद पॉलिटेक्निक के प्राचार्य डॉ. जगरूप सिंह ने कहा कि कई छात्र जेईई (मेन) के कठिन पेपर से घबराकर वे इंजीनियर बनने का सपना छोड़ देते हैं। उन्होंने कहा कि डिप्लोमा करने वाले छात्रों को बिना जेईई (मेन) के लेटरल एंट्री के जरिए बी.टेक. के दूसरे वर्ष में सीधे प्रवेश मिल जाता है। इसलिए मैट्रिक के बाद पॉलिटेक्निक से तीन साल का डिप्लोमा और फिर इंजीनियरिंग कॉलेज से तीन साल का बी.टेक. छात्रों के लिए एक बढ़िया विकल्प है। लेटरल एंट्री के माध्यम से बी.टेक करने वाले छात्र अकादमिक क्षेत्र में भी अच्छा प्रदर्शन करते हैं और उच्च ग्रेड के साथ बी.टेक करते हैं। क्योंकि उन्होंने अपने डिप्लोमा में ही काफी पाठ्यक्रम को पहले ही कवर कर लिया होता है। प्राचार्य डॉ. जगरूप सिंह ने यह भी कहा कि इस तरह आई.टी.आई पास या बारहवीं नॉन-मेडिकल या मेडिकल पास और 10 + 2 वोकेशनल पास छात्र भी लेटरल एंट्री के जरिए सीधे पॉलिटेक्निक के दूसरे वर्ष में प्रवेश कर सकते हैं। प्राचार्य साहिब ने कहा कि छात्र इस सुनहरे अवसर का लाभ उठाएं। उन्होंने कहा कि मेहरचंद पॉलिटेक्निक में प्रवेश हेल्पलाइन चालू है। छात्रों का रिस्पांस बहुत अच्छा है 10वीं या 12वीं पास कोई भी छात्र प्रवेश ले सकता है। वर्तमान में छात्रों को दस लाख की छात्रवृत्तियां दी जा रही हैं।

 

एचएमवी ने नकोदरी की एक दिवसीय शैक्षिक यात्रा का आयोजन किया

जालंधर (अरोड़ा):- प्राचार्य प्रो डॉ. अजय सरीन के मार्गदर्शन में बाहरी अध्ययन, प्रकृति अध्ययन, बाजार सर्वेक्षण और पावरलूम बुनाई इकाइयों का दौरा करने के लिए हंस राज महिला महाविद्यालय, जालंधर के डिजाइन विभाग के स्नातक द्वारा नकोदर की एक दिवसीय शैक्षिक यात्रा आयोजित की गई थी। डेरा बाबा मुराद शाहजी में वाटर कलर प्रदर्शन, पेंसिल और चारकोल शेडिंग, आर्किटेक्चरल स्टडी और फोटोग्राफी की गई। सूती धागे, फर्निशिंग सामग्री और पावरलूम-हथकरघा कपड़ों के लिए नकोदर के स्थानीय बाजार का सर्वेक्षण किया गया।

पावरलूम बुनाई इकाई, नई दाना मंडी नकोदर का भी दौरा फैकल्टी सदस्य डॉ. राखी मेहता, गुरदीप कौर, हरप्रीत कौर और बी डिजाइन की छात्राओं ने किया। प्राचार्य डॉ. सरीन ने डिजाइन विभाग के प्रयासों की सराहना की और छात्रों को छात्र जीवन के दौरान इस तरह की यात्राओं के महत्व के बारे में बताया। उन्होंने कहा कि इस तरह की यात्राएं प्रकृति को सीखने और तलाशने का अद्भुत अवसर प्रदान करती हैं। यह यात्रा बहुत ही फलदायी रही और छात्रों ने टेक्सटाइल की दुनिया के नए आयामों का पता लगाया।

एच.एम.वी. में सात दिवसीय एफ.डी.पी. का दूसरा दिन

जालंधर (अरोड़ा):- हंस राज महिला महाविद्यालय, जालंधर में प्राचार्या प्रो. डॉ. अजय सरीन के योग्यात्मक दिशा-निर्देशन अधीन बायोटैक्नालोजी विभाग भारत सरकार की डीबीटी स्टार स्कीम के तत्वावधान में ‘गुरु सिद्धता’ सात दिवसीय (24-30 जून) फैकल्टी डेवलेपमेंट प्रोग्राम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम के दूसरे दिन का शुभारंभ ज्ञान ज्योति प्रज्ज्वलित कर डी.ए.वी. गान से किया गया। इस मौके पर डॉ. संदेशा रयापा, अस्सिटैंट प्रोफैसर, लिंग्यूस्टिक इम्पावरमेंट सैल, जवाहर लाल नेहरू, यूनिवर्सिटी, दिल्ली मुख्य मेहमान के रूप में उपस्थित रहे। प्राचार्या प्रो. डॉ. अजय सरीन ने आए हुए मुख्य मेहमान का प्लांट भेंट कर स्वागत किया। उन्होंने कहा कि यह बहुत प्रसन्नता की बात है कि डॉ. संदेशा रयापा इस कार्यक्रम का हिस्सा बनी हैं। उन्होंने कहा हमें भविष्य में भी इस प्रकार के कार्यक्रम करते रहना चाहिए जिससे अध्यापन कार्य को अधिक प्रभावशाली बनाया जा सके। कार्यक्रम के दौरान डॉ. नीलम शर्मा ने एफ.डी.पी. के पहले दिन की रिपोर्ट प्रस्तुत की। डॉ. संदेशा ने  21वीं सदी के प्रभावशाली अध्यापन तकनीक पर अपने विचार प्रस्तुत किए।

उन्होंने भाषा कौशल पर विचार प्रस्तुत करते हुए कहा कि भाषा में शब्दों का सटीक प्रयोग करना चाहिए। उन्होंने संचार व प्रभावशाली संचार में अंतर बताते हुए  प्रभावशाली संचार का महत्व बताया। उन्होंने कहा कि विद्यार्थियों को प्रयोगात्मक ढंग से पढ़ाना चाहिए ताकि वह अच्छे से सीख सकें। उन्होंने सीखने के कौशल, साक्षरता कौशल व जीवन कौशल पर विस्तारपूर्वक चर्चा की। इसी के साथ उन्होंने शोध पद्दतियों पर भी महत्वपूर्ण जानकारी उपल्बध करवाई। मंच संचालन डॉ. नीतिका कपूर द्वारा किया गया। डॉ. साक्षी ने सभी गणमान्यों का धन्यवाद किया।

सेंट सोल्जर छात्रों की हो रही हैं बेहतरीन प्लेसमेंट्स

जालंधर (अजय छाबड़ा):- सेंट सोल्जर ग्रुप ऑफ़ इंस्टीच्यूशन्स हमेशा अपने बेहतरीन प्रदर्शन, अकादमिक परिणामों, प्लेसमेंट आदि के लिए जाना जाता है। इसी प्रकार इंजीनियरिंग के छात्रों का कंपनी अडानी पावर, टाटा पावर सोलर लिमिटेड, जेबीएस इंटरप्राइजेज प्राइवेट लिमिटेड में चयन हुआ। जानकारी देते हुए चेयरमैन अनिल चोपड़ा ने बताया कि इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग के छात्रों विकास कुमार ठाकुर की अडानी पावर में, उत्तम चाँद कुमार की कोफोर्ज कंपनी, विपिन कुमार को टाटा पावर सोलर लिमिटेड, विशाल को जैक, हनी को नेस्टरबर्ड, संदीप को कनेक्ट कंपनी द्वारा चयन किया गया। चेयरमैन चोपड़ा ने छात्रों को उनके भविष्य के लिए बधाई दी और उनका प्रोत्साहन बढ़ाया। प्रिंसिपल डॉ.गुरप्रीत सिंह सैनी ने जानकारी देते हुए बताया कि छात्रों को 2.5 से लेकर 3.5 लाख का एनुअल पैकेज मिला है और अच्छे पोज़िशनों पर चयन किया गया है।

आई.के.जी पी.टी.यू की डिप्टी लाइब्रेरियन मधु मिड्डा एस.आर.एफ.एल.आई.एस अवार्ड से सम्मानित

एफ.डी.पी समापन मौके सतीजा रिसर्च फाउंडेशन फॉर लाइब्रेरी एंड इनफार्मेशन साइंस की तरफ से किया गया पुरस्क़ृत

जालंधर (JJS):- आई.के.गुजराल पंजाब टेक्निकल यूनिवर्सिटी (आई.के.जी पी.टी.यू) की डिप्टी लाइब्रेरियन मधु मिड्डा  को यंग प्रोफेशनल ऑफ़ द ईयर अवार्ड से पुरस्कृत किया गया है! यह अवार्ड उन्हें विषय "लाइब्रेरी एंड इनफार्मेशन साइंस" में 20 साल से अधिक के करियर की उपलब्धियों एवं बेस्ट सर्विसेज के लिए मिला है! अंतरास्ट्रीय स्तर की शोध संस्था सतीजा रिसर्च फाउंडेशन फॉर लाइब्रेरी एंड इनफार्मेशन साइंस (एस.आर.एफ.एल.आई.एस) की तरफ से उन्हें यह अवार्ड साल 2019-20 के लिए दिया गया है!

कोविड महामारी के चलते दर्ज साल में फाउंडेशन कोई समारोह नहीं करवा पाई, इसलिए यह अवार्ड अब दिया गया है! मधु मिड्डा को यह पुरस्कार फाउंडेशन के संरक्षक प्रोफेसर एम.पी.सतीजा एवं फाउंडेशन अध्यक्ष डा. के.पी.सिंह, दिल्ली यूनिवर्सिटी की तरफ से दिया गया! यह अवार्ड मधु मिड्डा को आई.के.जी पी.टी.यू में आयोजित राष्ट्रीय स्तर के फैकल्टी डेवलपमेंट प्रोग्राम (एफ.डी.पी) के समापन समारोह दौरान दिया गया! समारोह में डा. के.पी.सिंह, प्रोफेसर लाइब्रेरी साइंस एवं निदेशक, गांधी भवन दिल्ली यूनिवर्सिटी मुख्य अततिथि के तौर पर शामिल हुए! मेजबान आई.के.जी पी.टी.यू के रजिस्ट्रार डा.एस.के.मिश्रा विशेष मेहमान रहे! डीन अकादमिक प्रो (डा) विकास चावला ने समारोह को चेयर किया! मुख्य अतिथि डा. के.पी.सिंह ने कहा कि यंग प्रोफेशनल्स हमेशां अपने आईडिया से यंग ही रहते हैं, इसलिए सदैव हर क्षण में मुस्कुराते रहें एवं सकारात्मक सोच से नए-नए आइडियाज पर काम करते रहें! यूनिवर्सिटी रजिस्ट्रार डा. एस के. मिश्रा ने लाइब्रेरी साइंस विषय में यूनिवर्सिटी की तरफ से किये जा रहे कार्यों को साँझा करते हुए भविष्य के संधर्व में अपनी बात रखी! जिक्रयोग है कि यूनिवर्सिटी के नॉलेज रिसोर्स सेंटर (के.आर.सी) की तरफ से ए.आई.सी.टी.ई द्वारा प्रायोजित एक सप्ताह का फैकल्टी डेवलपमेंट प्रोग्राम "लेटेस्ट टेक्नोलॉजीस एंड ट्रेंड्स इन लाइब्रेरीज" विषयपर आयोजित किया गया है! इसके अंतिम दिन सेंट्रल यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर डा.दिनेश गुप्ता रिसोर्स पर्सन के तौर पर उपस्थित रहे! प्रोग्राम में 50 के करीब प्रतिभागी रहे! इस अवसर पर यूनिवर्सिटी के डीन आर.एंड.डी प्रो डा आशीष अरोड़ा, ए.आई.सी.टी.ई कोर्डिनेटर प्रो राजीव चौहान, डिप्टी रजिस्ट्रार जन-संपर्क रजनीश शर्मा व अन्य उपस्थित रहे!

के.एम.वी. द्वारा छात्राओं के लिए नेशनल फिजिक्स लैबोरेट्री, दिल्ली में एजुकेशनल ट्रिप का आयोजन

जालंधर (मोहित अरोड़ा):- भारत की विरासत एवं ऑटोनॉमस संस्था, कन्या महाविद्यालय, जालंधर के पोस्टग्रेजुएट डिपार्टमेंट ऑफ फिकिाक्स के द्वारा एम.एस.सी. फिकिाक्स की छात्राओं के लिए नेशनल फिजिकल लेबोरेटरी, दिल्ली के एजुकेशनल ट्रिप का आयोजन करवाया गया। काउंसिल ऑफ साइंटिफिक एंड इंडस्ट्रियल रिसर्च के अंतर्गत स्थापित यह लेबोरेटरी विश्व भर के महान आविष्कारों जैसे:- रडार, पैकेट स्विचिंग, दि एक कंप्यूटर आदि का मौलिक आधार है। अपनी इस फेरी के दौरान छात्राओं ने 2डी स्ट्रक्चर तैयार करती और नैनो सामग्री पर काम करती हुई पतली फिल्म लैब के बारे में जानने के साथ-साथ करंसी नोटों के लिए लुमिनसेंट सामग्री, बायोल्यूमिनिसेंट सामग्री, सुरक्षा स्याही के लिए काम करती विभिन्न लैबोरेटरीओं के संबंध में जानकारी हासिल की। इसके अलावा छात्राओं ने वकान, बल एवं टार्क के माप और उपकरणों की कैलिब्रेशन के लिए उपयोग की जाती लैब का भी दौरा किया और साथ ही इंडियन स्टैंडर्ड टाइम की रूप में जाने जाते भारतीय समय के संरक्षण के बारे में भी जानकारी हासिल की। इस संस्था के दौरे इलावा छात्राओं ने जहां इंडिया गेट और राष्ट्रपति भवन की विजिट  की वहीं साथ ही गुरुद्वारा बंगला साहिब में भी नतमस्तक हुए। विद्यालय प्रिंसीपल प्रो. अतिमा शर्मा द्विवेदी ने इस सफल आयोजन के लिए फिकिाक्स विभाग द्वारा किए गए प्रयासों की प्रशंसा की।

दाखिले के लिए डिप्स पॉलिटेक्निक कॉलेज में आयोजित किया गया काउंसलिंग सैल

जालंधर (प्रवीण):- पंजाब राज्य तकनीकी शिक्षा बोर्ड और इंडस्ट्रियल ट्रैनिग चंडीगढ़ से मान्यता प्राप्त डिप्स पॉलिटेक्निक कॉलेज रड़ा-मोड़ में विद्यार्थियों के लिए गाइडेंस और काउसलिंग सैल का आयोजन किया गया। कॉलेज प्रिंसिपल जगजीत सिंह ने बताया कि काउंसलिंग सैल का मुख्य मकसद बच्चों को कॉलेज में करवाए जाने वाले विभिन्न कोर्स और उनके दाखिले संबंधी जानकारी से अवगत करवाना है ताकि बच्चे बिना किसी दिक्कत के अपनी ऊंच शिक्षा को पूरा कर सके।  उन्होंने बताया कि सैल में इंजीनियर हरमीत सिंह, इजीनियर बलवीर सिंह दाखिला कोर्डिनेटर, इंजीनियर कश्मीर सिंह दाखिला इंचार्ज, रमनवीर कौर बतौर गाइडेंस और काउंसलर अपनी भूमिका अदा कर रहे है।  कॉलेज में पंजाब राज्य तकनीकी शिक्षा बोर्ड की तरफ से 2022-2023 के लिए दाखिला प्रक्रिया शुरू हो चुकी है।  कॉलेज में विद्यार्थी डिप्लोमा इन सिविल इंजीनियरिंग, इलेक्ट्रानिक्स एंड कम्यूनिकेशन इंजीनियरिंग ( इंडस्ट्री इंटीग्रेटिड), इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग, मैकेनिकल इंजीनियरिंग, कंप्यूटर साइंस एंड इंजीनियरिंग, ऑटोमोबाइल इंजीनियरिंग में दाखिला ले सकते है। साइंस, गणित, इंग्लिश के साथ 10 पास कर चुके विद्यार्थी पहले साल और साइंस विषय में बाहरवीं पास करने वाले या वोकेशनल या आईटीआई ( सेकेंड ईयर) पास करने वाले दूसरे साल में दाखिला ले सकते है। विद्यार्थियों को पैक्टिकल नॉलेज देने के लिए समय-समय पर विभिन्न तरह की वर्कशाप, सेमिनार और इंडस्ट्रीयल ट्रैनिंग का आयोजन किया जाता है। एमडी सरदार तरविंदर सिंह के दिशा निर्देश पर विद्यार्थियों के लिए विभिन्न तरह की गतिविधियां करवाई जाती है ताकि विद्यार्थियों को अपने प्रोफैशनल करियर में किसी भी तरह की दिक्कत न हो।

एच.एम.वी. में सात दिवसीय एफ.डी.पी. का आयोजन

जालंधर (अरोड़ा):- हंस राज महिला महाविद्यालय, जालंधर में प्राचार्या प्रो. डॉ. अजय सरीन के योग्यात्मक दिशा-निर्देशन अधीन बायोटैक्नालोजी विभाग भारत सरकार की डीबीटी स्टार स्कीम के तत्वावधान में ‘गुरु सिद्धता’ सात दिवसीय (24-30 जून) फैकल्टी डेवलेपमेंट प्रोग्राम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम का शुभारंभ ज्ञान ज्योति प्रज्ज्वलित कर डी.ए.वी. गान से किया गया। इस कार्यक्रम में जस्टिस (रिटा.) एन.के. सूद, उप प्रधान डीएवी कॉलेज प्रबंधकत्र्री समिति, नई दिल्ली व चेयरमैन लोकल कमेटी, डॉ. सतीश आहूजा, प्रिंसिपल डायरेक्टर डीएवी इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट, फरीदाबाद विशेष मेहमान व डॉ. अनीश दुआ, डीन स्टूडेंट डिवेल्पमेंट, जुलॉजी विभाग, गुरु नानक देव यूनिवर्सिटी, अमृतसर मुख्य मेहमान रहे। उद्घाटन सत्र की शुरूआत में प्राचार्या प्रो. डॉ.  अजय सरीन ने आए हुए मेहमानों का प्लांटर भेंट कर स्वागत किया।

प्राचार्या डॉ. अजय सरीन ने एफडीपी के  महत्व के बारे में बताते हुए कहा कि ज्ञान अर्जित करने की कोई आयु नहीं होती। इसलिए हमें सीखना कभी नहीं छोडऩा चाहिए। उन्होंने कहा कि सीखने के लिए विनीत होना जरूरी है। हमें सदैव ही अपनी कमियों को दूर करने का प्रयास करना चाहिए और अपने व्यक्तित्व को निखारना चाहिए। डॉ. सतीश आहूजा ने अपने विचार प्रस्तुत करते हुए कहा कि हमारे भीतर सीखने की लगन हमेशा बनी रहनी चाहिए। उन्होंने संस्था  को इस कार्यक्रम का आयोजन करने के लिए शुभकामनाएं दी। जस्टिस (रिटा.) एन.के. सूद ने अपने विचार प्रस्तुत करते हुए कहा कि एक अध्यापक ही डाक्टर, राजनेता, आईपीएस अफसर बनाता है। समाज में सबसे महत्त्वपूर्ण स्थान अध्यापक का ही है इसलिए अध्यापक को अपना दायित्व अच्छे से निभाना चाहिए। फिजिक्स विभागाध्यक्षा श्रीमती सलोनी शर्मा ने सभी मेहमानों का धन्यवाद किया। एफ.डी.पी. के प्रथम सत्र में डॉ. अनीश दुआ ने शिक्षण विधियों पर अपने विचार प्रस्तुत करते हुए कहा कि अध्यापक को अपने विषय को बहुत ही प्रभावशाली ढंग से पढ़ाना चाहिए। उन्होंने कहा कि कक्षा में विद्यार्थी पर विशेष ध्यान केन्द्रित करते हुए उसकी प्रतिभागिता को सुनिश्चित करना चाहिए ताकि विद्यार्थी अधिक से अधिक रुचि के साथ ज्ञान अर्जित कर सकें। उन्होंने अध्यापक को सकारात्मक सोच अपनाने के लिए कहा। उन्होंने कहा कि विद्यार्थियों को नया सिखाने के लिए अध्यापक को हमेशा ही जागरूक रहकर नया ज्ञान अर्जित करते रहना चाहिए। एफ.डी.पी. के दूसरे सत्र में डॉ. (श्रीमती) मनीषा सिक्का, डाइटीशियन, टैगोर अस्पताल, जालंधर ने संतुलित आहार संबंधी अपने विचार प्रस्तुत करते हुए कहा कि यदि हमारा भोजन साफ और संतुलित होगा तभी हम अपनी सेवाओं को सही ढंग से प्रस्तुत कर सकेंगे। संतुलित आहार लेकर ही हम निरोग जीवन जी सकते हैं। इस कार्यक्रम का आयोजन कोआर्डिनेटर डॉ. अंजना भाटिया, डीन इनोवेशन एंड रिसर्च, कनवीनर सलोनी शर्मा, अध्यक्ष फिजिक्स विभाग, डॉ. हरप्रीत सिंह, अध्यक्ष बायोइन्फारमेटिक्स विभाग, डॉ. नीलम शर्मा, कैमिस्टरी विभागाध्यक्षा, ड़ॉ. सीमा मरवाहा, डीन एकेडेमिक, अनिल भसीन, डॉ. जतिंदर कुमार, गगनदीप, डॉ. राखी मेहता तथा आशीष चड्ढा द्वारा किया गया। इस अवसर पर सभी फैकल्टी सदस्य भी मौजूद रहे।

1 2 3 4 5
  • About Us

    Religious and Educational Newspaper of Jalandhar which is owned by Sarv Sanjha Ruhani Mission (Regd.) Jalandhar